तेलंगाना की राजधानी क्या है?

telangana ki rajdhani kya hai

2 जून 2014 को तेलंगाना भारत का 29 वां राज्य बन गया। यह पहले आंध्र प्रदेश का एक हिस्सा था। भारत के स्वतंत्र होने से पहले इसे हैदराबाद राज्य में शामिल किया गया था, जिसमें वारंगल और मेडक नामक दो प्रभाग शामिल थे। उस समय यह क्षेत्र निज़ामों द्वारा शासित था। 2011 की जनगणना के अनुसार, इस क्षेत्र की आबादी 35,193,978 थी, जो आंध्र प्रदेश की आबादी का 41.6% थी। तेलंगाना को 31 जिलों में विभाजित किया गया है।

तेलंगाना के गठन का इतिहास

तेलंगाना का अलग राज्य बनाने का आंदोलन बहुत पहले शुरू हो गया था। कई आंदोलन हुए थे लेकिन सबसे महत्वपूर्ण 1969, 1972 और 2009 के दौरान हुआ था। वर्षों के दौरान, इस आंदोलन ने बहुत अधिक भाप इकट्ठा की।

तेलंगाना के अलग राज्य बनाने की प्रक्रिया 9 दिसंबर, 2009 को भारत सरकार से औपचारिक घोषणा के साथ शुरू हुई थी। हालांकि, विरोध में, रायलसीमा और तटीय आंध्र क्षेत्रों के विधायकों और सांसदों ने अपना इस्तीफा दे दिया।

इन क्षेत्रों में उक्त घोषणा के बाद कुछ हिंसक विरोध प्रदर्शन भी हुए। इसके परिणामस्वरूप, 2009 के दिसंबर में भारत सरकार को बैक बर्नर पर प्रक्रिया करने के लिए मजबूर होना पड़ा। तेलंगाना आंदोलन हैदराबाद के साथ-साथ क्षेत्र के अन्य जिलों में भी जारी रहा।

यह प्रक्रिया 30 जुलाई, 2013 को फिर से शुरू हुई जब कांग्रेस पार्टी ने तेलंगाना के नए राज्य के निर्माण के लिए भारत सरकार से अनुरोध किया। यह निर्णय लिया गया कि हैदराबाद अगले एक दशक तक तेलंगाना और आंध्र प्रदेश दोनों की संयुक्त राजधानी बनी रहेगी। यह प्रक्रिया 3 अक्टूबर, 2013 को केंद्रीय मंत्रिमंडल की मंजूरी के साथ हुई।


तेलंगाना पर मंत्रियों के एक समूह (GoM) के मसौदे को भारत सरकार ने 5 दिसंबर, 2013 को मंजूरी दी थी, जिसके बाद इस बिल को संसद में पेश किया गया था, ताकि दोनों सदन एक ही मत दे सकें। 15 वीं लोकसभा ने 18 फरवरी, 2014 को एक नया राज्य बनाने के पक्ष में मतदान किया और राज्य सभा ने 20 फरवरी, 2014 को इस पर अमल किया।

भारत के राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने 1 मार्च, 2014 को निर्णय के लिए अपनी सहमति प्रदान की और उसी दिन के लिए राजपत्र अधिसूचना को लाया गया। यह भारत सरकार द्वारा 4 मार्च, 2014 को घोषित किया गया था कि तेलंगाना का नया राज्य बनाया जाएगा और इसलिए इसका गठन 2 जून 2014 को किया गया था।

दो साल बाद, अक्टूबर 2016 में, राज्य में 21 नए जिले बनाए गए। जिलों में सिद्दीपेट, जंगोन, विकाराबाद, जयशंकर, जगतियाल, पेद्दापल्ली, वारंगल (ग्रामीण), यदाद्री, कामारेड्डी, मेडक, मंचेरियल, महाबूबबाद, राजन्ना, आसिफाबाद, कोथागुडेम, वानापर्थी, सूर्यपेट, निर्मल, नागरमल, नागरार्क, नागालैंड शामिल हैं।

राज्य के अन्य दस जिलों में हैदराबाद, आदिलाबाद, महबूबनगर, मेडक, करीमनगर, वारंगल, निजामाबाद, रंगा रेड्डी, खम्मम और नलगोंडा शामिल हैं।

जिलों, राजस्व प्रभागों के साथ, मंडल और अन्य प्रशासनिक इकाइयों को भी पुनर्गठित किया गया था